हर की पौड़ी (har ki pauri) उत्तराखंड में गंगा के किनारे हरिद्वार में स्थित सबसे पवित्र घाटों में से एक है। यह प्रसिद्ध स्थान पवित्र शहर हरिद्वार के प्रमुख स्थलों में से एक है। मान्यता है कि हर की पौड़ी पर भगवान हरि (विष्णु जी) के चरण पड़े थे, तभी से इस स्थान का नाम हर की पौड़ी है। इसे हरिद्वार का सबसे पवित्र धार्मिक स्थल के रूप में जाना जाता है। 

शाब्दिक रूप से ‘हर की पौड़ी’ का अर्थ भगवान विष्णु का चरण होता है। ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव और भगवान विष्णु ने वैदिक युग में हर की पौड़ी में ब्रह्मकुंड का दौरा किया था। कहा जाता है कि यह सटीक स्थान है जहां गंगा पहाड़ों को छोड़कर मैदानों में प्रवेश करती है। आपको बता दें, यहां हर दिन पौड़ी घाट पर सैकड़ों लोग गंगा के पानी में डुबकी लगाते हैं।

हर की पौड़ी घाट की कहानी

किंवदंती कहती है कि देवताओं और असुरों के बीच अमृत कलश, जो कि शीर सागर के समुद्र मंथन से निकाला गया था, के लिए एक भयानक लड़ाई हुई थी । जब यह भयावह लड़ाई नियंत्रण से बाहर हो गई, तो भगवान विष्णु ने एक सुंदर महिला के रूप में खुद को प्रच्छन्न किया ताकि वे असुरों से अमृत छीन सके। हालांकि, असुरों को जल्द ही सुंदर महिला के पीछे का वास्तविक सच पता चल गया और उन्होंने भगवान विष्णु से कलश प्राप्त करने के लिए उनका पीछा करना शुरू कर दिया। पीछा करते समय, अमृत की कुछ बूंदें एक स्थान पर गिर गईं, जिसे अब हर की पौड़ी में ब्रह्मकुंड के रूप में जाना जाता है। इस स्थान के सांस्कृतिक महत्व के बारे में जानने के बाद, राजा विक्रमादित्य ने पहली शताब्दी में अपने भाई, भरथरी की याद में मंदिर का निर्माण किया, क्यूंकि उनके भाई गंगा के तट पर यहां पर ध्यान किया करते थे।

हर की पौड़ी में कुंभ स्नान का है खास महत्व 

हर की पौड़ी वह स्थान है जहां बड़ी संख्या में तीर्थयात्री एक साथ आते हैं। यहां हर बारह साल में कुंभ मेले के दौरान करोड़ो श्रद्धालु एकत्रित होते है और गंगा नदी में स्नान करते है। यह स्थान वैसाखी के दौरान भी व्यस्त रहता है, जो एक पंजाबी त्योहार है जो हर साल अप्रैल महीने में होता है। यहां मनाए जाने वाले कुछ अन्य त्योहार कंवर मेला और माघ मेला प्रमुख है।

हर की पौड़ी का मुख्य आकर्षण

हर की पौड़ी की संध्या काल की गंगा आरती प्रसिद्ध है। सायंकालीन आरती के दौरान भक्त  ज्योत और पुष्प के साथ दीये (मिट्टी के दीपक) भी जलाते है। दीपक की रौशनी भक्तों की आशाओं और इच्छाओं का प्रतीक हैं और गंगा घाट के नदी में सैकड़ों दीए का दृश्य एक शानदार दृश्य बनाता है।

कैसे पहुंचे हर की पौड़ी

हर की पौड़ी हरिद्वार के जिला मुख्यालय से मात्र 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। हरिद्वार जिला मुख्यालय रेल और सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है।  इसके अलावा देहरादून हवाई अड्डा, हरिद्वार से मात्र 72 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां से टैक्सी या बस के माध्यम से हरिद्वार आसानी से पहुंचा जा सकता है। 

यदि आप अन्य व्रत-त्योहार, पूजा-पाठ और मंदिरों के बारे में अधिक जानना चाहते हैं तो देवदर्शन ऐप ज़रूर डाउनलोड करें। साथ ही इस ब्लॉग को शेयर करना न भूलें।

ये भी पढ़ें- 

Author

Write A Comment